सावधान रहें Icici Bank Prudential से - News Vision India

Breaking

29 Dec 2017

सावधान रहें Icici Bank Prudential से

Just to meet the targets icici Bank And icici Prudential employees are committing Fraud with his customers

ICICI Bank और ICICI प्रोडक्शन ग्राहकों के साथ धोखा कर बेच रहा है इंश्योरेंस पॉलिसी

बैंक वाले भोले भाले कम पढ़े लिखे लोगों के साथ उनके पैसे से खिलवाड़ कर रहा है. ताज़ा मामला सामने आया हैं की बैंक ने एक गरीब किसान, जो कि 7.50 लाख रूपय बैंक में जमा करने गया था. उसको झासा दे कर बैंक ने कुछ पैसे की #FD बनाई और कुछ पैसे की इंश्योरेंस पॉलिसी बेच दी. #Insurancefraud  किसान को इस फर्जीवाड़े का तब पता चला जब उसके पास अगली किस्त के लिए नोटिस आया.

यह मामला सिर्फ एक के साथ नहीं कईयों के साथ किया गया है

इस मामले में #ICICI के पुराने कर्मचारी नितिन बालचंदानी ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई, की बैंक किस तरीके से लोगों के पैसे के साथ खिलवाड़ कर रहा है और उन्हें बेवकूफ बना रहा है.

मामले की जांच राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप कर रहा है और उसने कई बैंक कर्मचारिओ के खिलाफ #FIR दर्ज कर रखी है. इस जाँच में बैंक के फ्रॉड करने का तरीका सामने आया है:

बैंक का बहुत बड़ा टारगेट अपने कर्मचारिओ को दे दिया जाता है जो कि पूरा नहीं हो सकता.

तो ICICI के कर्मचारी फर्जीवाड़ा करके अपने टारगेट पूरे करतें हैं

जो कम पढ़े लिखे लोग हैं, जो की पॉलिसी और बैंक के डॉक्यूमेंट, जिसमें बहुत छोटे छोटे अक्षरों में लिखा रहता है नहीं पढ़ पाते हैं उनके धोखे  से साइन करवा लेते हैं. उनका पैसा इंश्योरेंस और FD में डाल दिया जाता है.

अगर किसी के पास पैसा नहीं है तो बैंक उसको लोन देते हैं और उस लोन का बड़ा हिस्सा पॉलिसी में डाल दिया जाता है.

ICICI के कस्टमर कॉल सेंटर में यही कर्मचारी अपना नाम और उम्र कम बता कर पॉलिसी के प्रोडक्ट की जानकारी पूरी होने की बात कहते हैं.

इस मामले में जब नितिन बालचंदानी में आवाज उठाई तो बैंक ने उसके खिलाफ एक रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसमें कहा कि यह फर्जीवाड़ा करता है लोगों के साथ. पुलिस ने जांच उपरांत उस को क्लीन चिट दी और कहा कि बैंक में जो इल्जाम नितिन बालचंदानी पर लगाए हैं वह झूठे हैं.

इस रिपोर्ट के बाद नितिन बालचंदानी हाई कोर्ट में एक पीआईएल लगाई मगर विडंबना यह रही की सुनवाई के 1 दिन पहले नितिन बालचंदानी को गिरफ्तार कर लिया जाता है

हमारे देश में जब भी कोई सच कहता है या सच्चाई के लिए लड़ाई लड़ता है तो उसको सारे तरीके की तकलीफें दी जाती है. ताकि वह अपनी आवाज दबा कर चुपचाप सिस्टम में हो रहे फर्जीवाड़े को देखता रहे.

Dr. Siraj Khan
Chief Editor, News Vision India

2 comments:

  1. Replies
    1. हाँ मेरे साथ धोखा हुवा है,किट न पाने से आप धोखे मे रहते है,समझने तक बहुत देर हुउ होती है,कम सै कम 5वर्षो के लिए आप ठग सा लिए जिते है,2साल बाद मुझे 50000 पर नाम मात्र का लाभाश मिला है.ऐक लूट सी है,नचाहने वालो को 1साल बाद3000की मूल
      य ह्रास और मेनटली त्रास सहना होति है,पालिसी कभी भी बंद करने का विकल्प होना चाहिए.icici पर रोक होनी चाहिऐ,ठगी की.

      Delete

Follow by Email

Pages