बजट के अभाव में गई सरकारी कर्मचारी की जान - News Vision India

Breaking

16 Feb 2018

बजट के अभाव में गई सरकारी कर्मचारी की जान

Low Budget Takes Life Uttar Pradesh

सीतापुर- प्रदेश की राजधानी से महज 85 किमी दूर जनपद सीतापुर में तबादले से हताश एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने अपने विभाग के उच्चाधिकारी से सेहत बेहतर न होने पर रहम की गुहार लगायी थी।

यही नहीं उसने मुख्यमंन्त्री तक को पत्र भेज कर उसके साथ कुछ अनहोनी होने की दशा में शीर्ष अधिकारी को ही जिम्मेदार बताया था। बावजूद इसके इन सब बातों से बेपरवाह जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने अपना फैसला नहीं बदला और कल उस कर्मचारी की मौत हो गयी.

जिससे नाराज परिजनों ने आज उसका शव बीएसए दफ्तर में रख कर प्रदर्शन किया जहां उसने कई वर्ष तक नौकरी की। आपको बता दें कि सीतापुर के बीएसए कार्यालय में सुबह से ही काफी हंगामा मचा हुआ था। क्योंकि कुछ लोग एक व्यक्ति के शव को रखकर प्रदर्शन कर रहे थे। दरअसल सीतापुर बीएसए कार्यालय में तैनात रामबदल का दो माह पूर्व सीतापुर कार्यालय से खैराबाद ब्लॉक में तबादला कर दिया गया था और वह वहां जाना नहीं चाहता था। क्योंकि वह अपनी बीमारी से परेशान था और इसको लेकर उसने कई बार प्रार्थना पत्र भी दिया था।

विभागीय सूत्र बताते हैं कि अभी चार दिन पहले भी उसने प्रार्थना पत्र दिया था और उसमें उसने किसी अनहोनी होने पर बीएसए सीतापुर को ही जिम्मेदार ठहराया था। जिसकी एक प्रति सीएम योगी को भी भेजी थी। तबादले के कारण रामबदल को दो माह से वेतन नही मिला था और वह अपना इलाज नहीं करा सका। जिस कारण बीमारी से परेशान रामबदल की कल रात मौत हो गयी। इससे नाराज परिजनों ने आज बीएसए कार्यालय में रामबदल को शव को रखकर प्रदर्शन किया। उधर सीतापुर बीएसए ने कहा कि मैंने उसे मेडिकल लीव पर जाने के लिए कहा था।


शाहरूफ़ खान न्यूज़ विज़न इंडिया सीतापुर

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages