मौजूदा सरकार एक छात्र की नज़र से - News Vision India

Breaking

1 Apr 2018

मौजूदा सरकार एक छात्र की नज़र से

मध्य प्रदेश की वर्तमान स्थिति को देखते हुए आज मेरा मन कुछ लिखने को कर रहा है मध्य प्रदेश जो वर्तमान में एक विकसित राज्य के रूप में जाना जाने लगा है उसके पीछे कई कारण है इनमें से कुछ राजनीतिक कारण तथा कुछ आर्थिक और प्रशासनिक कारण भी हैं राजनीतिक कारण में मध्यप्रदेश में बीजेपी की सरकार होना आर्थिक कारण में हमारे किसान भाइयों की मेहनत तथा प्रशासनिक कारणों में हमारे योग्य और कर्मठ प्रशासन अधिकारी शामिल है किंतु यदि हम वर्तमान परिपेक्ष में बात करें तो हमारे मध्य प्रदेश की हालत इतनी खराब हो चुकी है कि चारों तरफ बलात्कार जात्यादि मारपीट तथा आंदोलन देखने को मिल रहे हैं इसके पीछे बहुत सारे कारण हैं लेकिन उसको कोई देखता देखना नहीं चाहता है

 यदि हम अभी की बात करें तो 17 मार्च से हमारे दोस्त MPPSC के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं उसे सुनने वाला कोई नहीं है क्या छात्रों को अपना हक मांगने का अधिकार नहीं है क्या हमारे मामा जी को यह सब दिखाई नहीं दे रहा जो बोलते हैं हम मामा भांजे भांजे भांजियों को कुछ नहीं होने देंगे और जो भांजे भांजी आंदोलन कर रहे हैं क्या यह उनकी नहीं है अभी वर्तमान में पटवारी परीक्षा के खिलाफ भी लोग आंदोलन कर रहे हैं उन पर लाठियां बरसाई गई क्या हमें यही मिलेगा जिन्हे हम चुनकर  बैठाए एक मुखिया के होने के नाते मामा जी को इस बार हमारे  ओर ध्यान देना चाहिए छात्रों के आंदोलन में तो मीडिया समूह भी साथ नहीं देता क्योंकि वह कभी सत्ता के पक्ष में ही दिखायेगा  नहीं तो उनके यहां छापेमारी हो जाएगी

 यहां मैं केवल सत्ता पक्ष को ही दोष नहीं दूंगा क्योंकि यदि विपक्ष में भी कोई है तो उसका भी यह अधिकार है कि छात्रों के पक्ष में बोले लेकिन इनकी पक्ष में कोई नहीं बोलता क्योंकि कभी इनका भी शासन था या इनका भी शासन आएगा मेरा एक प्रश्न है इस सरकार से यह भी है कि हम छात्र अपने हक की लड़ाई के लिए कहां जाएं जहां कोई सुनने वाला ही नहीं है और यह सरकार या ना भूले कि सरकार सरकार बनाने में सबसे बड़ा हाथ हम स्टूडेंट का साथ हैै युवा का है कम से कम छात्रों पर लाठियां बरसाना और जेल में डालना तो बंद कर दो मामा जी यदि इन्हें अपना भांजा और भांजी मानते हो तो नहीं तो यह आपकी सरकार  ज्यादा दिन नहीं चलेगी
यह लेखक स्वयं के विचार है
 
आशुतोष तिवारी
 (छात्र )

2 comments:

Follow by Email

Pages