302 के आरोपियों तक नही पहुँच पा रही है जाँच , CM HELPLINE का हुआ कचरा - News Vision India

Breaking

15 Apr 2018

302 के आरोपियों तक नही पहुँच पा रही है जाँच , CM HELPLINE का हुआ कचरा

ashish sahu murder mistry
 हत्या 302 के आरोपियों तक नही पहुँच पा रही है, CM-HELPLINE का       हुआ कचरा. शिकायत न. 5478234, में फर्जी औपचारिक कार्यवाही का उल्लेख, आवेदक की हैसीयत नहीं है, उच्च न्यायलय में याचिका दायर करने की, जिसके चलते हो रहे है उसे न्याय मिलने में देरी
  
IPS  हुए ढीले साबित, एक हत्या की  गुत्थी  सुलझाने में  साडी काबलियत दांव पे लग गयी है, सारे तंत्र व्यवस्थाये चरमरा गयी है, 151-110 में कार्यवाही योग्य असामाजिक तत्वों पर सीधी कार्यवाही का रिकॉर्ड बनता जा रहा है, 302 जघन्य हत्या के आरोपियों पर मेहरबान पुलिस, जाँच के नाम पर कर रही है हीला हवाली, क्योकि मरने वाला था आम आदमी, कोई राजनेता का पुत्र नही, इसी विद्वान् अधिकारी का पुत्र नही था वो, एक किसान मुन्नालाल साहू का पुत्र आशीष साहू जिसकी हत्या संदेह पूर्ण  रूप से उसके पिता को आशीष के दोस्तों पर है, जिनकी नामजद रिपोर्ट आशीष के पिता ने सनौधा थाने  में की हैबावजूद उसके पुलिस की सारी काबलियत लहरा उठी है जाँच के नाम पर अज्ञात आरोपियों पर दर्ज किया है प्रकरण 151/17, 

जरा गौर फरमाए   CM-HELPLINE का  हुआ कचरा. शिकायत न. 5478234, में फर्जी कार्यवाही का उल्लेख, एक एक से बिन्दुवार पड़ने में ऐसा लगता है जैसे इंस्पेक्शन अधिकारी ने सबको अपनी जाँच करने की क्षमता से हिला डाला हो, ऐसे में इस अनुभवी अधिकारी को DGP बना देना उचित रहेगा, कहा इन्हें निरीक्षक बतौर सनौधा जैसे ग्रामीण एरिया में पदस्त कर पुलिस वभाग इनकी योग्यता से अछूता रह गया है, प्रदेश की तरक्की में इनके अनुभवों का लाभ लिया जाना जनहित लोकहित में अच रहेगा, प्रकरण को जैसे चाहे वैसे घुमा दे,  

                          देखिये जाँच अधिकारी के अलग अलग विचार, कैसे होती है जाँच पर धांधली 

दिनाक 17-02-2018  :-    शिकायत जॉच के संबंध में आवेदक मुन्नालाल पिता स्व् तेजई लाल साहू उम्र 50 साल निवासी ग्राम सानौधा थाना सानौधा को तलब किया गया जो कार्यालय उपस्थित आया शिकायत के संबंध में पूछताछ कर कथन लेख किये गये जिसने बताया कि इसके भतीजे आशीष साहू को फिरोज, दिनेश्‍, दीपेश साथ में लेकर गये थे तथा दूसरे दिन आशीष की लाश लिधोरा स्टेशन के पास मिली थी जो शिकायत के संबंध में जीआरपी सागर से जानकारी प्राप्ती की गई जो ज्ञात हुआ की म़तक आशीष पिता जाहर सिंह की लाश लिधोरा स्टेरशन के पास मिली थी जो जीआरपी सागर में मर्ग क्रमांक 25/17 धारा 174 सीआरपीसी का कायम किया गया था आवेदक की रिपोर्ट पर जीआरपी सागर में अज्ञात आरोपी के विरूद्ध अपराध क्रमांक 108/17 धारा 302,201 भादवि का कायम किया जाकर विवेचना में लिया गया है। अज्ञात आरोपी की तलाश पतासाजी जारी है। जीआरपी सागर द्वारा आवेदक की रिपोर्ट पर विधि सम्मत कार्यवाही की गई है।

दिनाक 01-03-2018  आवेदक आशीष साहू का शिकायत पत्र हुआ। एल-1 अधिकारी श्री डी.पी.सिंह के स्थानान्तरण पर कार्यमुक्त होने से मुझ प्रतिमा पटेल अति.पुलिस अधीक्षक रेल जबलपुर द्वारा शिकायत के संबंध में थाना प्रभारी रेल पुलिस सागर से प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार दिनांक 22.06.17 को रेलवे स्टेशन लिधोरा खुर्द मे एक अज्ञात व्यक्ति की डेड बॉडी रेलवे ट्रेक मे पडी होने की सूचना स्टेशन मास्टर लिधौरा/सागर से प्राप्त होने पर मर्ग क्र. 25/17 धारा 174 जा.फौ. का दिनांक 22.06.17 को समय 07.50 बजे कायम किया जाकर मर्ग जांच के दौरान अज्ञात मृतक आशीष साहू पिता जाहिर साहू उम्र.23 नि. ग्राम सानौधा जिला सागर के नाम से शिनाख्त किया गया। पंचायतनामा कार्यवाही के अतिरिक्त एफएसएल सागर के वैज्ञानिक टीम अधिकारी डॉ. बृजेश चोधरी के द्वारा भी घटनास्थल शव की समीक्षा कार्यवाही संपादित की गयी। घटनास्थल मे मृतक आशीष साहू के पाये गये शव की स्थिति, पी.एम. रिपोर्ट एवं जांच के दौरान मृत्यु संदेहास्पद पाया जाने से अप.क्र. 108/17 धारा 302,201 भादवि दिनांक 27.06.17 को पंजीबद्ध किया जाकर अनुसंधान मे लिया गया। अनुसंधान के दौरान पीड़ित पक्ष परिजन के कथन लिपिबद्ध किये गये। जिसमे मुख्य रूप से आवेदक मुन्नालाल साहू मृतक के बड़े पिता द्वारा कथन मे बताया गया है। कि आशीष साहू की दोस्ती उठना बैठना आना-जाना कु. कविता अहिरवार के घर एवं उनके माता-पिता, भाई से संपर्क था। दिनांक 21.06.17 को शाम दोस्त दीपेश अहिरवार एवं फिरोज खांन घर में आये थे और आपसी बातचीत करते रहे। इसके पष्चात आशीष इनके जाने के बाद घर से गया है। और उसकी डेड बाडी रेलवे स्टेशन लिधौरा में पायी गयी है। इस आधार पर दीपेश अहिरवार, फिरोज खान एवं कविता अहिरवार के सभी सदस्यों माता पिता भाई पर मृत्यु की शंका की गयी है। आवेदक के कथनो के आधार पर 01 दीपेश अहिरवार, 02 फिरोज खांन, 03 कविता अहिरवार, 04 मुन्नालाल अहिरवार, 05 श्रीमती माया अहिरवार, 06 आशीष अहिरवार, 07 दिनेश अहिरवार नि. सानौधा जिला सागर से विस्तृत पूछताछ कर कथन लिये गये है। जिसमे दीपेश अहिरवार, फिरोज खांन एवं दिनेश अहिरवार के द्वारा पढ़ाई लिखाई के दौरान एक साथ रहने से दोस्ती होने के नाते संपर्क बना रहना एवं कविता अहिरवार के द्वारा कोचिंग ट्यूशन पढ़ना, पढ़ाना। कविता अहिरवार के माता पिता भाई आशीष अहिरवार द्वारा घर आने जाने के कारण जानना पहॅचानना बताया गया है। लेकिन आशीष साहू की हत्या कैसे किन व्यक्तियों के द्वारा की गयी है। इस संबंध मे कोई जानकारी नही होना बताया गया है एवं आवेदक द्वारा भी शंकास्पद व्यक्तियों के ऊपर हत्या करने के संबंध में कोई साक्ष्य प्रस्तुत नही किये है। प्रकरण कि विवेचना पुलिस अधीक्षक / अति.पुलिस अधीक्षक,रेल जबलपुर के मार्गदर्शन की जा रही है, प्रकरण में घटना स्थल का दो बार निरीक्षण किया गया एवं मुन्नालाल साहू से पूछताछ कर कथन लिए गये एवं उक्त अनावेदको से भी पूछताछ कि जा रही है। अतः साक्ष्य के तकनीकि बिन्दु व परिस्थितिय जन्य साक्ष्य व वैज्ञानिक साक्ष्य का संकलन कर आरोपियों की पतारसी के पूर्ण प्रयास किये जा रहे है । प्रकरण में प्राथमिकी कि प्रति दी गई है। थाना प्रभारी रेल पुलिस सागर को शीघ्र आरोपियों का पता कर गिरफ्तार करने हेतु निर्देशित किया गया है।


दिनाक 07-03-2018  :-  आवेदक आशीष साहू का शिकायत पत्र हुआ। शिकायत के संबंध में थाना प्रभारी रेल पुलिस सागर से प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार दिनांक 22.06.17 को रेलवे स्टेशन लिधोरा खुर्द मे एक अज्ञात व्यक्ति की डेड बॉडी रेलवे ट्रेक मे पडी होने की सूचना स्टेशन मास्टर लिधौरा/सागर से प्राप्त होने पर मर्ग क्र. 25/17 धारा 174 जा.फौ. का दिनांक 22.06.17 को समय 07.50 बजे कायम किया जाकर मर्ग जांच के दौरान अज्ञात मृतक आशीष साहू पिता जाहिर साहू उम्र.23 नि. ग्राम सानौधा जिला सागर के नाम से शिनाख्त किया गया। पंचायतनामा कार्यवाही के अतिरिक्त एफएसएल सागर के वैज्ञानिक टीम अधिकारी डॉ. बृजेश चोधरी के द्वारा भी घटनास्थल शव की समीक्षा कार्यवाही संपादित की गयी। घटनास्थल मे मृतक आशीष साहू के पाये गये शव की स्थिति, पी.एम. रिपोर्ट एवं जांच के दौरान मृत्यु संदेहास्पद पाया जाने से अप.क्र. 108/17 धारा 302,201 भादवि दिनांक 27.06.17 को पंजीबद्ध किया जाकर अनुसंधान मे लिया गया। अनुसंधान के दौरान पीड़ित पक्ष परिजन के कथन लिपिबद्ध किये गये। जिसमे मुख्य रूप से आवेदक मुन्नालाल साहू मृतक के बड़े पिता द्वारा कथन मे बताया गया है। कि आशीष साहू की दोस्ती उठना बैठना आना-जाना कु. कविता अहिरवार के घर एवं उनके माता-पिता, भाई से संपर्क था। दिनांक 21.06.17 को शाम दोस्त दीपेश अहिरवार एवं फिरोज खांन घर में आये थे और आपसी बातचीत करते रहे। इसके पष्चात आशीष इनके जाने के बाद घर से गया है। और उसकी डेड बाडी रेलवे स्टेशन लिधौरा में पायी गयी है। इस आधार पर दीपेश अहिरवार, फिरोज खान एवं कविता अहिरवार के सभी सदस्यों माता पिता भाई पर मृत्यु की शंका की गयी है। आवेदक के कथनो के आधार पर 01 दीपेश अहिरवार, 02 फिरोज खांन, 03 कविता अहिरवार, 04 मुन्नालाल अहिरवार, 05 श्रीमती माया अहिरवार, 06 आशीष अहिरवार, 07 दिनेश अहिरवार नि. सानौधा जिला सागर से विस्तृत पूछताछ कर कथन लिये गये है। जिसमे दीपेश अहिरवार, फिरोज खांन एवं दिनेश अहिरवार के द्वारा पढ़ाई लिखाई के दौरान एक साथ रहने से दोस्ती होने के नाते संपर्क बना रहना एवं कविता अहिरवार के द्वारा कोचिंग ट्यूशन पढ़ना, पढ़ाना। कविता अहिरवार के माता पिता भाई आशीष अहिरवार द्वारा घर आने जाने के कारण जानना पहॅचानना बताया गया है। लेकिन आशीष साहू की हत्या कैसे किन व्यक्तियों के द्वारा की गयी है। इस संबंध मे कोई जानकारी नही होना बताया गया है एवं आवेदक द्वारा भी शंकास्पद व्यक्तियों के ऊपर हत्या करने के संबंध में कोई साक्ष्य प्रस्तुत नही किये है। प्रकरण कि विवेचना मेरे एवं अति.पुलिस अधीक्षक,रेल जबलपुर के मार्गदर्शन की जा रही है, मेरे द्वारा घटना स्थल का दो बार निरीक्षण किया गया एवं मुन्नालाल साहू से पूछताछ कर कथन लिए गये एवं उक्त अनावेदको से भी पूछताछ की जा रही है अतः साक्ष्य के तकनीकि बिन्दु व परिस्थितिय जन्य साक्ष्य व वैज्ञानिक साक्ष्य का संकलन कर आरोपियों की पतारसी के पूर्ण प्रयास किये जा रहे है । प्रकरण में प्राथमिकी की प्रति दी गई है, उक्त अपराध के अज्ञात अपराधियों को शीघ्र गिरफ्तार किये जाने के प्रयास जारी है।

दिनाक 06-04--2018  :-  शिकायतकर्ता आषीष साहू की शिकायत पर से पुलिस अधीक्षक रेल जबलपुर से प्राप्त प्रतिवेदन अनुसार दिनांक 22.06.17 को रेलवे स्टेषन लिधोरा खुर्द मेें एक अज्ञात व्यक्ति की डेड बाडी रेलवे ट्रेक में पड़ी होने की सूचना स्टेषन मास्टर लिधौरा/सागर से प्राप्त होने पर मर्ग क्र0 25/17 धारा 174 जा0फौै0 का दिनांक 22.06.17 को समय 0750 बजे कायम किया गया। मर्ग जांच के दौरान अज्ञात मृतक आषीष साहू पिता जाहिर साहू उम्र 23 नि0 ग्राम सानौधा जिला सागर के नाम से षिनाख्त किया गया। पंचायतनामा कार्यवाही के अतिरिक्त एफएसएल सागर के वैज्ञानिक टीम अधिकारी डॉ0 ब्रजेष चौधरी के द्वारा भी घटनास्थल शव की समीक्षा कायवाही संपादित की गयी। घटना स्थल में मृतक अषाीष साहू के पाये गये शव की स्थिति पीएम, रिपोर्ट एवं जांच के दौरान मृत्यु संदेहास्पद पाये जाने से अप0क्र0 108/17 धारा 302, 201 भादवि दिनांक 27.06.17 को पंजीबद्ध किया जाकर अनुसंधान में लिया गया । अनुसंधान के दौरान पीड़िता पक्ष के परिजन के कथन लिपिबद्ध किये गये। जिसमे मुख्य रूप से आवेदक मुन्नालाल साहू मृतक के बड़े पिता द्वारा कथन में बताया गया है, कि आषीष साहू की दोस्ती उठना बैठना आना-जाना कु0 कविता अहिरवार के घर एवं उनके माता पिता, भाई से संपर्क था। दिनांक 21.06.17 को शाम दोस्त दीपेष अहिरवार एवं फिरोज खान घर में आये थें और आपसी बातचीत करते रहे, इसके पश्चात आषीष इनके जाने के बाद घर से गया है। और उसकी डेड बाडी रेलवे स्टेषन लिधौरा में पायी गयी है। इस आधार पर दीपेष अहिरवार, फिरोज खान एवं कविता अहिरवार के सभी सदस्यों माता-पिता, भाई पर मृत्यु की शंका की गयी है। आवेदक के कथन के आधार पर 01 दीपेष अहिरवार, 02 फिरोज खान, 03 कविता अहिरवार, 04 मुन्नालाल अहिरवार, 05 श्रीमती माया अहिरवार, 06 आषीष अहिरवार, 07 दिनेष अहिरवार, नि0 सानौधा जिला सागर से विस्तृत पूछताछ कर कथन लिये गये है। जिसमें दीपेष अहिरवार, फिरोज खान, एवं दिनेष अहिरवार के द्वारा पढ़ाई लिखाई के दौरान एक साथ रहने से दोस्ती होने के नाते संपर्क बना रहना एवं कविता अहिरवार के द्वारा कोचिंग ट्यूषन पढ़ना, पढ़ाना बताया गया है। कविता अहिरवार के माता पिता, भाई आषीष अहिरवार द्वारा घर आने जाने के कारण जानना पहचानना बताया गया है। लेकिन अषीष साहू की हत्या कैसे किन व्यक्तियों के द्वारा की गयी है, इस संबध में कोई जानकारी नही होना बताया गया है एवं आवेदक द्वारा भी शंकास्पद व्यक्तियों के उपर हत्या करने के संबध में कोई साक्ष्य प्रस्तुत नही किये हैप्रकरण की विवेचना पुलिस अधीक्षक/अति पुलिस अधीक्षक रेल जबलपुर के मार्गदर्षन में की जा रही है। प्रकरण में प्राथमिकी की प्रति षिकायतकर्ता को दी गई है। पुलिस अधीक्षक रेल जबलपुर द्वारा दिनांक 23, 24, 25.03.18 को ग्राम सानौधा में रूककर घटना की बारीकी से विवेचना करवाई गई। साथ ही आवेदक द्वारा गवाहो के शपथ पत्र की तस्दीक कराई गई। साथ ही विवेचना के दौरान अन्य साक्षियो के पते चलने पर उनसे पूछताछ की जा रही है। साथ ही मृतक के इन्दौर में डेढ़ साल कॉल सेन्टर में काम करने के कार्य स्थल एवं निवास स्थल की तस्दीक एवं जांच हेतु एक टीम इन्दौर रवाना की गई है। दिये गये शपथ पत्रों के सत्यापन एवं जमीन जायदाद संबधी विवादों की जानकारी के संबध में पृथक से टीम गठित कर जानकारी प्राप्त करने हेतु एवं उक्त अपराध में अज्ञात आरोपियों का पता लगा शीघ्र गिरफतार किये जाने हेतु थाना प्रभारी रेल पुलिस सागर को निर्देषित किया गया है।

पूर्व में प्रसारित खबर 
आशीष हत्याकांड नही सुलझा पा रही सनौधा पुलिस, सागर मध्य प्रदेश

Also Read:
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

महिला प्रिंसिपल छात्र को घर बुला जबरन शारीरिक संबंध बनाती थी, अब हुई फरार

डिजिटल वैश्यावृत्ति, सोशल मीडिया बना आधार इस काले धंधे का पुलिस ने किया खुलासा

जो महिलाएं जींस पहनती हैं वे किन्नर बच्चे को जन्म देती और चरित्रहीन होती है

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#PoliceNotInvestigatingAshishSahuMurder, #NewsVisionIndia, #HindiNewsJabalpurMpSamachar,

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages