नींद की ज्यादा गोलियां देने से कोमा में चली गई थी पीड़िता कठुआ गैंगरेप में नया खुलासा - News Vision India

Breaking

25 Jun 2018

नींद की ज्यादा गोलियां देने से कोमा में चली गई थी पीड़िता कठुआ गैंगरेप में नया खुलासा

Kathua Gang Rape Victim Was In Koma

अपराध विज्ञान विशेषज्ञों ने कहा है कि कठुआ में इस साल जनवरी में आठ साल की एक लड़की की हत्या से पहले उसे जबरन नींद की काफी गोलियां दी गयीं, जिसकी वजह से शायह वह कोमा में चली गयी। मामले की जांच कर रही जम्मू कश्मीर पुलिस की अपराध शाखा ने उसे उसके अपहर्ताओं द्वारा दी गयी मन्नार कैंडी (उसे स्थानीय गांजा समझा जाता है) और एपिट्रिल 0.5 एमजी गोलियों के प्रभाव का परीक्षण करने के लिए इसी महीने के प्रारंभ में उसका विसरा अपराध विज्ञान प्रयोगशाला में भेजा था। हाल ही में अपराध शाखा को मिली मेडिकल राय के तहत डॉक्टरों ने कहा है कि आठ साल की लड़की को दी गयी गोलियों से शायद वह सदमे की स्थिति में या कोमा में चली गयी। 


अपराध शाखा ने मेडिकल विशेषज्ञों से आठ साल की लड़की को उसके खाली पेट रहने के दौरान दी गयी इन दवाइयां के संभावित असर के बारे में पूछा था। अपराध शाखा ने तब विस्तृत मेडिकल राय जाने का फैसला किया जब अदालत में आरोपियों और उनके वकीलों ने तथा सोशल मीडिया पर उनके समर्थकों ने दावा किया कि यह करीब करीब असंभव है कि लड़की पर हमला हो रहा हो और वह नहीं चिल्लायी हो। विसरा का परीक्षण करने के बाद डॉक्टरों ने कहा कि लड़की को जो दवा दी गयी थी, उसमें क्लोनाजेपाम साल्ट था और उसे मरीज के उम्र और वजन को ध्यान में रखकर चिकित्सकीय निगरानी में ही दिया जाता है।

चिकित्सकीय राय में कहा गया है, ‘उसके (पीड़िता के) 30 किलोग्राम वजन को ध्यान में रखते हुए मरीज को तीन खुराक में बांटकर प्रति दिन 0.1 से 0.2 एमजी दवा देने की सिफारिश की जाती है। उसे 11 जनवरी , 2012 को जबर्दस्ती 0.5 एमजी की क्लोनाजेपाम की पांच गोलियां दी गयीं जो सुरक्षित डोज से ज्यादा थी। बाद में भी उसे और गोलियां दी गयीं। ज्यादा डोज के संकेत और लक्षण नींद, भ्रम, समझ में कमी, प्रतिक्रियात्मक गतिविधि में गिरावट, सांस की गति में कमी या रुकावट, कोमा और मृत्यु हो सकते हैं।’

चिकित्सकीय राय के मुताबिक क्लोनाजेपाम की शीर्ष सांद्रता दवा लेने के करीब एक से डेढ़ घंटे में रक्त में हो जाती है, चाहे उसे भोजन के साथ लिया जाए या उसके बगैर। यह राय अगले हफ्ते ग्रीष्मावकाश के बाद पंजाब के पठानकोट की जिला एवं सत्र अदालत को सौंपी जाएगी जो इस मामले की सुनवाई कर रही है। उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर इस मामले की सुनवाई कठुआ से पठानकोट स्थानांतरित किया गया था।

डॉक्टरों ने कहा कि यदि क्लोनाजेपाम को अल्कोहल जैसी अन्य चीजों के साथ लिया जाए तो जोखिम ज्यादा हो जाता है। हालांकि डॉक्टर मन्नार कैंडीज का कोई प्रयोगशाला आधारित विश्लेषण नहीं दे पाए और उन्होंने कहा कि क्लोनाजेपाम के साथ ऐसी किसी अन्य दवा देने के प्रभाव के बारे में टिप्पणी करना मुश्किल है। मन्नार स्थानीय रुप से उपलब्ध भांग है जो व्यक्ति को कुछ घंटे तक बेसुध रखता है।

अल्पसंख्यक घुमंतू जनजाति से जुड़ी आठ साल की एक लड़की को दस जनवरी को मुख्य आरोपी सांजी राम के किशोर भतीजे ने कथित रुप से अगवा कर लिया था और 14 जनवरी को उसकी हत्या कर दी गयी। उसका शव 17 जनवरी को मिला। पठानकोट की जिला एवं सत्र अदालत ने आठ जून को सात आरोपियों के विरुद्ध बलात्कार एवं हत्या के आरोप तय किये थे। आरोप है कि मुख्य आरोपी सांजी राम ने अल्पसंख्यक घुमंतू समुदाय को इलाके से हटाने की रणनीति के तहत अन्य आरोपियों के साथ मिलकर लड़की के अपहरण की साजिश रची थी।


Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#KathuaGangRapeVictimWasInKoma, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar,  #CrimeAgainstWoman,

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages