पर्यावरण संतुलन बिगड़ने का मुख्य कारण अवैध पेड़ कटान - News Vision India

Breaking

20 Jul 2018

पर्यावरण संतुलन बिगड़ने का मुख्य कारण अवैध पेड़ कटान

Save Trees With Tree Plantation Uttar Pradesh

सुलतानपुर । विकास के दौर में वनों की अंधाधुंध कटान से पर्यावरणीय संकट उत्पन्न हुआ ऐसी स्थिति में पर्यावरण को संतुलित बनाए रखने के लिए एवं स्वच्छ वातावरण के लिए वृहद स्तर पर वृक्षारोपण अति आवश्यक है वृक्ष जहां हमें शुद्ध हवा प्रदान करते हैं वही हमारे परिवेश को भी बेहतर बनाने में अमूल्य योगदान देते हैं वृक्ष मनुष्य के जीवन के लिए मूल आधार भी हैं ऐसे में हम सभी को प्रत्येक वर्ष अधिक से अधिक वृक्षारोपण करना चाहिए उक्त बातें कुड़वार थाना अध्यक्ष नन्द कुमार तिवारी ने जय श्री फाउंडेशन की तरफ से थाना परिसर के अंदर वृक्षारोपण के दौरान कही ।

उन्होंने वहाँ पर उपस्थित लोगों से वृक्षारोपण करने का आहान किया उन्होंने यह भी कहा कि आज चारों ओर वातावरण प्रदूषित हो रहा है इसके लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा वृक्षों को लगाकर ही पर्यावरण असंतुलन को कम किया जा सकता है पर्यावरण असंतुलन के कारण जीव जंतु के अस्तित्व पर खतरा उत्पन्न हो गया है इसके लिए समाज के हर व्यक्ति को संकल्पित होकर कम से कम 5 पौधे रोपित करने चाहिए । इस मौके पर जय श्री फाउंडेशन और थाना क्षेत्र के सदस्य समेत कई बाहरी लोग उपस्थित रहे ।

रिपोर्ट अमन वर्मा स्टेट कोआडिरनेटर न्यूज विजन उत्तर प्रदेश

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#SaveTreesWithTreePlantationUttarPradesh, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar,  #SultanpurUttarPradesh,

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages