सरकार की अर्थब्यवस्था मजबूरी बढती महगाई तथा आगामी लोकसभा चुनावी सरगर्मियो पर विशेष - News Vision India

Breaking

12 Sep 2018

सरकार की अर्थब्यवस्था मजबूरी बढती महगाई तथा आगामी लोकसभा चुनावी सरगर्मियो पर विशेष

Petrol Price Rise St Sc Act And Coming Election Editorial
लखनऊ से सरकार की अर्थब्यवस्था मजबूरी, बढती महगाई तथा भारत बंद एवं आगामी लोकसभा चुनावी सर गर्मियो को लेकर स्टेट हेड न्यूज विजन भानू मिश्रा उत्तर प्रदेश की विशेष

तथा सभी विपछी पार्टियों की राजनैतिक एकता व सरकार का अर्थव्यवस्था मजबूती अभियान और बढ़ती महंगाई को लेकर एक और भारतबंद की अपील पर विशेष

सुप्रभात-सम्पादकीय

साथियों,

आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राजनैतिक सरगर्मियां तेज होने लगी है और सभी दलों को जनता का दुख दर्द याद आने एवं हमदर्दी बढ़ने लगी है। आगामी चुनाव के दृष्टिगत इलेक्ट्रॉनिक चैनलों पर बहसों का दौर शुरू हो गया है और पूरा विपक्ष मोदी सरकार के प्रति हमलावर होकर उन्हें जनता की अदालत के कटघरे में खड़ा करने लगा है।

यह सही है कि अगर देश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करके दुनिया में धाक जमानी है तो देशवासियों को आर्थिक बोझ झेलना पड़ेगा क्योंकि सरकारी खजाना तभी भरेगा जब आमलोगों की सुविधाओं रियायतों में तमाम कटौती करके राजस्व में वृद्धि होगी। मोदी सरकार शुरू से अर्थव्यवस्था मजबूत करने का प्रयास कर रही है लेकिन दुख इस बात का है कि इसके लिये सबसे ज्यादा आमजनता को शिकार बनाया जा रहा है। तमाम अनुदान देने की परम्परा को धीरे धीरे समाप्त किया जा रहा है और लोगों से सब्सिडी छोड़ने की अपील की जा रही है तथा पेंशन नीति बदल दी गयी है। जीएसटी लगाकर छोटे व्यवसाइयों से भी टैक्स देने पर मजबूर कर दिया गया है और अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के नाम पर नोटबंदी योजना चलाई गयी जिसका धुँआ अभी भी उठ रहा है।इस योजना के बाद अर्थव्यवस्था मजबूत हुयी हो या न हुयी हो लेकिन नये नियमों की बदौलत बैंक मनमानी कटौती हेराफेरी करके जरूर मालामाल हो गये और ग्राहक को भगवान से गरजी बेवश बना दिया गया।

अर्थव्यवस्था सुधार के नाम पर सरकार ने डीजल पेट्रोल मिट्टी तेल गैस जैसी जनमानस से जुड़ी चीजों को जीएसटी के दायरे से बाहर कर दिया गया जो आज विपक्ष के लिये वरदान साबित हो रहा है। आज डीजल पेट्रोल के आसमान छूते मूल्यों को लेकर धरना प्रदर्शन आंदोलन के बाद विपक्षी दलों द्वारा भारतबंद का आवाह्वान किया गया है।तारीफ की बात तो यह है कि सरकार की हर नीतियों पर विपक्ष हमलावर होता है लेकिन सरकार के एससी एसटी एक्ट विधेयक का कोई विरोध नही किया।लगता है कि जैसे सवर्ण अछूत हो गया है और उसकी जरूरत किसी भी दल को नहीं रह गई है।

एससी एसटी एक्ट के समर्थन एवं विरोध दोनों में भारतबंद का आवाह्वान करने से समाजिक समरसता छिन्न भिन्न होने के कगार पर पहुंचती जा रही है। भारतबंद का मतलब देश बंद होता है जो अक्सर राष्ट्रीय स्तर की समस्या को लेकर होता है और इसमें प्रायः विपक्षी दल शामिल होते हैं क्योंकि इस तरह के आयोजनों से विपक्षी राजनैतिक एकता एवं मजबूती को बल मिलता है। डीजल पेट्रोल के मूल्यों में वृद्धि के खिलाफ विपक्षी दलों के भारतबंद के आवाह्वान के दौरान शांति बनाये रखना जरुरी होता है क्योंकि इधर बंद के दौरान जोर-जबरदस्ती, आगजनी, हिंसक प्रदर्शन, तोड़फोड़ आदि करके विरोध जताना एक फैशन बनता जा है। लोकतंत्र में अहिंसा को परमो धर्मा कहा गया है और हिंसक आंदोलन को कोई स्थान नहीं दिया गया था।

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#PetrolPriceRiseStScActAndComingElectionEditorial, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar, #CongressBjp,

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages