नरेंद्र रिंकू सिंह एक दशक में कैसे बना 50 हज़ार का इनामिया बदमाश - News Vision India

Breaking

27 Dec 2018

नरेंद्र रिंकू सिंह एक दशक में कैसे बना 50 हज़ार का इनामिया बदमाश

सुल्तानपुर- इससे पहले कि 50 हज़ार का इनामी अपराधी एक और हत्याकांड को अंजाम देता, साए की तरह पीछे लगी पुलिस ने उसे एक मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी कई राउंड फायरिंग के बाद हुई। लेकिन उसका एक साथ ही भागने में कामयाब रहा. पुलिस ने रिंकू के कब्जे से आधुनिक हथियार भी बरामद किया है। पता चला है कि ऑपरेशन करौंदीकला थानाक्षेत्र में हाजीपुर विधौना में हुई। पैर में गोली लगने ने इनामिया घायल हुआ था जिसे इलाज के लिए लखनऊ रेफर किया गया है। पहले तो पुलिस ने उसे इलाज के लिये अखंडनगर सीएचसी ले गई थी।

पकड़ने में ये टीमें रहीं शामिल
इनामिया को दबोचने में क्राइम ब्रांच-सर्विलांस सेल के साथ-साथ अखंडनगर और कादीपुर पुलिस की रही अहम भूमिका। जिसमे क्षेत्राधिकारी विजय मल यादव ने अपने लंबे अनुभव के कारण दुर्दांत अपराधी रिंकू सिंह के अगले वारदात को करने से पहले रोकने में कामयाबी पायी। गौरतलब है कि सीओ विजय मल यादव कटका अपहरण कांड में भी अपने अनुभवों से अतिशीघ्र घटना का खुलासा करने में महती भूमिका निभाई।

3 माह पूर्व किया था विजेठुआ मार्ग पर हत्या
नरेंद्र सिंह उर्फ रिंकू सिंह सुत अशोक कुमार निवासी हसरू ने तीन माह पूर्व
कृष्ण कुमार सिंह की गोली मारकर हत्याकांड को दिया था अंजाम। इनामिया रिंकू के खिलाफ हत्या, जानलेवा हमले,डकैती समेत दो दर्जन संगीन मुकद्दमे दर्ज हैं।
हाल ही में कृष्ण कुमार सिंह सुत राम मूरत सिंह की हत्या विजेथुवा महावीरन मार्ग पर किया था। बैटरी व्यवसाई कृष्ण कुमार (38) अपनी दुकान बंद करके घर जा रहे थे। तभी उनकी सन्नाटे में गोली मारकर हत्या कर दी गयी।जिसमें थाने में 319/18 भादवी 302 दर्ज की गई थी।
कहा जाता है कि जमीनी विवाद में यह मर्डर 9 सितंबर को आठ बजे देर शाम अंजाम दिया गया था।

मुखबिरी के शक में करौंदीकला में दिन दहाड़े हत्याकांड को दिया था अंजाम
(सुल्तानपुर) दो वर्ष पूर्व पांच जनवरी को करौंदी कला बाजार में सत्यपाल सिंह (42) की हत्या हो गई थी। आरोप है की हत्या रिंकू सिंह ने अकेले ही किया थी, उसे शक था कि मृतक सत्यपाल उसकी मुखबिरी पुलिस से करता है। नतीजन दुस्साहस दिखाते हुए रिंकू सिंह ने दिनदहाड़े हेलमेट लगाकर अकेले बाजार पहुंचा और अपनी बाइक खड़ी करके सतपाल सिंह को भरे बाजार दौड़ाकर गोली मार दी ।सतपाल सिंह की हत्या से क्षेत्र में दहशत कायम हो गई, रिंकू चाहता भी यही था। इस बीच पुलिस उसके पीछे पड़ी रही कि कुछ दिन पूर्व कटसारी गावँ का शातिर अपराधी कादीपुर में मुड़भेड़ के दौरान गिरफ्तार हो गया। जिसमे बाइक पर पीछे बैठा रिंकू पुलिस को चकमा देकर मौके से भाग निकला था। आज गिरफ्तार हुआ रिंकू आजमगढ़, अम्बेडकरनगर, प्रतापगढ़, जौनपुर आदि जिले में बड़े आपराधिक मुकद्दमे को दे चुका है अंजाम।

पैरोकार को रास्ते से हटाने की ताक में था इनामिया
सूत्र बताते हैं कि कृष्ण कुमार सिंह हत्याकांड के मामले को बुरी तरह प्रभावित करने की फ़िराक में था।मामले के पैरोकार व मृतक के भाई अशोक सिंह सुत स्वर्गीय राम मूरत सिंह की हत्या करके छेत्र में वर्चस्व बढ़ाने की जुगत में था।

सर्विलांस टीम को छकाने में माहिर था
पुलिस मुठभेड़ में घायल रिंकू का अंदाज निराला था। वह पुलिस विभाग की संकटमोचन माने जाने वाले सर्विलांस सेल को छकाने में खूब माहिर था ।सूत्र बताते हैं कि वह रह-रह कर अपना मोबाइल नंबर और हैंडसेट बदलता रहता था। पुलिस ने उसको पकड़ने के लिए मुखबिरों का भी बड़ा जाल बिछाया था। इसलिए वह ज्यादा देर भाग न सका।

एक दशक से छेत्र में बना था दहशत का पर्याय
मुड़भेड़ में पकड़े गए शातिर अपराधी का जरायम की दुनिया से पुराना याराना था।अंतर्जनपदीय अपराधियों से दोस्ती निभाना इसका पुराना शगल था।
10राउंड गोली चलाने के बाद पकड़ा गया, दूसरा भाग निकला। जब सुबह हुई तो ग्रामीणों ने गेहूं के गीले खेतो में उसके भागने के निशान देखें। अब रिमांड के दौरान पुलिस उसके अज्ञात साथी की जानकारी करेगी।

क्या कहते हैं क्षेत्रवासी
क्षेत्र के लोग बताते हैं कि बदमाश रिंकू वर्ष 2003-04 से अपराध का रास्ता पकड़ा। लेकिन एक दशक तक वह छोटी मोटी घटनाओं को अंजाम देता रहा लेकिन. बीते चार-पांच सालों में उसने बड़े-बड़े वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया तभी से वह कादीपुर अखंडनगर करौंदी कला थाना क्षेत्रों की पुलिस की निगाहों में चुभने लगा. जेल में निरुद्ध दुर्दांत राम सागर, अनिरुद्ध पाल जैसे अपराधियों के संगत के चलते इसकी जड़ें काफ़ी मजबूत हो चली थी।

प्रधानी की दावेदारी करने की फिराक में था रिंकू
क्षेत्र में वर्चस्व कायम करने में लगा रिंकू अपने दिलों में मंसूबा कुछ और ही पाल रखा था ।उसने सोचा की दहशत के जरिए आगामी प्रधानी के चुनाव में वह अपनी दावेदारी पेश करेगा,वो भी निर्दलीय लड़कर।

पुलिस टीम का हौसला बढ़ाने जिला अस्पताल पहुंचे एसपी
एसपी अनुराग वत्स 50,000 इनाममियां के मुठभेड़ में घायल और गिरफ्तार होने के बाद पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स दफ्तर पहुंचने से पहले जिला अस्पताल जाकर अपनी टीम का हौसला बढ़ाया ।उन्होंने सभी टीमों के संयुक्त अभ्यास से मिली सफलता से टीम का हौसला बढ़ाया। अपराधियों को सीधा सन्देश दिया कि यदि अपराधी अपराध करने का रास्ता नहीं छोड़ेंगे तो पुलिस उन पर कड़ी कानूनी कार्रवाई करेगी

अमन वर्मा के साथ योगेश यादव की रिपोर्ट न्यूज़ विज़न उत्तर प्रदेश

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311

For Donation Bank Details
Account Name: News vision
Account No: 6291002100000184
Bank Name: Punjab national bank
IFS code: PUNB0629100

Via Google Pay
Number: +91 9589333311

#FullHistoryOf50000RupeesAwardeeAccuseWhoWasArrestedByPolice, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar, 

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages