आपने अपने मताधिकार का प्रयोग किया , और अब नेता करेगा उसका सदुपयोग ऐश करके, 5 साल नेता जी का चेहरा भी नही दिखेगा आपको अब - News Vision India

Breaking

29 Apr 2019

आपने अपने मताधिकार का प्रयोग किया , और अब नेता करेगा उसका सदुपयोग ऐश करके, 5 साल नेता जी का चेहरा भी नही दिखेगा आपको अब

know-what-is-the-power-of-one-vote-some-historical-events-2019-elections
know-what-is-the-power-of-one-vote-some-historical-events-2019-elections


आप अपने मताधिकार का प्रयोग करे , और नेता को सौपे ऐश करने के अधिकार,

आप अपने मताधिकार का प्रयोग करे , और नेता को सौपे ऐश करने के अधिकार, ये चुनाव प्रक्रिया भी एक ऐसी सुनहरी दिलचस्प लालच है, जो हर राजनैतिक दल का नेता हर पंचवर्षीय योजना का घोषणा पत्र में ले कर हाजिर होता है, और जीत मिलते ही विलुप्त-गायब  हो जाता है,  जीतने के बाद तो कई नेताओ विधायको-सांसदों को ये नही पता रहता की बतौर जन प्रतिनिधि उनके कार्य का विषय क्या है,  

आप नेता के पक्ष में वोट देने के अधिकारी को कैश करते हुए , अपने पैरो चल के, पेट्रोल डीजल जला के, काम धाम छोड़ के अपने  हाथो से अपने ऊपर राज करने का अधिकार उसके देते है, जिसको राजनैतिक दल ने आपके लिए चुना है, आपने नही , आजकल वोटिंग का प्रतिशत % इतना गिर रहा है उसके पीछे की ख़ास वजह यही है की लोगो की अब रूचि नष्ट हो रही है वोट करने में , आखिर वोट दे भी  किसको , क्योकि राजनैतिक दल योग्यता नही देखते,वो तो ये देखते है की जिसे टिकेट देनी है वो क्षेत्र में कितना प्रसिद्द  है  वो कितना सक्षम है, पार्टी फण्ड कितना दे सकता है,   ओर जीतने के कितने चांसेस है,  ताकि पार्टी के खाते में  एक सीट पर  जीत निश्चिन्त हो कर , कम जद्दोजहद से मिल सके,  क्योकि आज के ज़माने में लोगो को रूचि गिर रही है , इसके पीछे है आज हमारे देश में राजनैतिक दलों को नियंत्रित करने कोई कानून नही है , एक था सूचना का अधिकार , उसकी खुद राजनैतिक  दलों पक्ष-विपश  ने मिल के निर्मम हत्या कर दी, इस कांड में दोनों भाई-भाई  थे , कही भी ये बिल पास होने से ना रुका , राज्यसभा होया लोकसभा , कोई ने आपत्ति नही की.

आज हुयी वोटिंग का नतीजा देश का विकास हो ना हो  , भ्रष्टाचार पर लगाम हो या ना हो , नेता जी को मिलेगा प्लेन मे सफ़र करने का लुफ्त , ट्रेन 1st ac कन्फर्म टिकट के साथ मिल जायेगा, 5 साल का फिर से राजयोग ,  और फिर अगली पंचवर्षीय योजना तक एक मानव पीढी फिर से अपनी युवा अवस्था का अंत किसी ना किसी राजनैतिक दल के कार्यकर्ता के रूप में गँवा देगी, ये सोचते सोचते शायद कोई नेता आयेगा ओर देश में रोजगार का विकास का सूर्योदय होगा, ओर जो नेता खुद बेरोजगारी काटते हुए कमाने आया था,  इस रहस्य को कार्यकर्ता जब तक समझेगा तब तक बहोत देर हो चुकी होएगी , वो नेता-राजनैतिक पार्टी को दिए हुए युवा समय का परितोशक भि प्राप्त नही कर सकेगा, 



No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages