सिन्धी समाज में भारी शोक की लहर , शहर के प्रतिष्टित युवा व्यापारी का कार एक्सीडेंट में हुआ निधन, मासूम बेटी ने भी मौके पे दम तोडा - News Vision India

Breaking

11 Jun 2019

सिन्धी समाज में भारी शोक की लहर , शहर के प्रतिष्टित युवा व्यापारी का कार एक्सीडेंट में हुआ निधन, मासूम बेटी ने भी मौके पे दम तोडा



 🌹🌹🌹ओम शांती 🌹🌹ASHISH KUMAR DASWANI LAKHNADONE ROAD ACCIDENT  🌹🌹ओम शांती 🌹🌹🌹

सिन्धी समाज में शोक की लहर , शहर के प्रतिष्टित युवा व्यापारी का कार एक्सीडेंट में हुआ निधन , मासूम ने भी मौके पे दम तोड़ा.

आज दिनांक 11 जून 2019 को लगभग शाम 5:30 बजे लखनादोन हाईवे पर शहर के प्रतिष्ठित युवा व्यापारी आशीष कुमार दासवानी जी जो,  अपने परिवार के साथ यात्रा कर रहे थे,  अचानक अनायास अज्ञात कारणों के चलते उनका वाहन पद से डगमगा गया और इस दुखद  दुर्घटना में सिंधी समाज के प्रतिष्ठित युवा व्यापारी की सांसे थम गयी

क्षतिग्रस्त वाहन  इनसेट में  

एक्सीडेंट में उनकी पत्नी को हाथ पैर में चोट है , दोनों जगह फ्रैक्चर है, उनके पुत्र को मामूली अंदुरनी चोट एवं राईट हैण्ड में मामूली फ्रैक्चर है, कल सुबह लाख्ननादोन शासकीय चिकित्सालय से पी एम् के बाद लगभग 10 बजे, पिता एवं पुत्री के पार्थिव शरीर को जबलपुर लाया जायेगा,  उनकी पत्नी और बेटा जबलपुर हॉस्पिटल में एडमिट है, खतरे से बाहर है, 

इस  दुर्घटना का परिणाम इतना भयानक था,  कि साथ में आशीष की पुत्री ने भी मौके पर दम तोड़ दिया,  इस वर्ष का सबसे विरल तम घटनाक्रम प्रारब्ध ने निर्धारित करके रखा था, सृष्टि के जीवन मरण के इस हवन कुंड में  आहुति आज सिन्धी समाज ने दी है,  समाज ने खोया है एक युवा,

भविष्य अनभिज्ञता में हर मनुष्य अपना नित्य कर्म करता चलता आ रहा होता है,  डेस्टिनी ने लगभग सब कुछ निर्धारित करके रखा होता है,  और मनुष्य अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए अपने परिवार के साथ खुश मिजाज जीवन व्यतीत कर रहा होता है, यश –अपयश , जय पराजय –जीवन मृत्यु –लाभ हनी, ये आठ पहलू इश्वर ने अपने हाथ रखे है, इसमे मनुष्य का कोई जोर.  

अंबिका हार्डवेयर के नाम से सिंधी समाज के युवा खुश मिजाज व्यापारी आशीष कुमार दासवानी व्यापार करते थे,  करमचंद चौक से बड़ी ओमती की तरफ मार्ग पर हितकारिणी कॉलेज के सामने उनका व्यवसाय स्थल था,  वह नेपियर टाउन चौथा पुल रोड के नियमित निवासी रहे,  शहर के प्रतिष्ठित दवा व्यापारी शंकर दासवानी के भतीजे थे,

पूरे सिन्धी समाज में शोक की लहर

इस कदर एक दुर्घटना में शहर के युवा व्यापारी की सांसे थम जाना,  सिंधी समाज के लोगों के लिए निस्संदेह एक बड़ी क्षति है,  जिसे कभी पूरा नहीं किया जा सकता , जिसे कभी हासिल नहीं किया जा सकता,  इस घटनाक्रम में सिंधी समाज के सभी व्यापारियों के द्वारा दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है, एवं सभी लोगो के उपचार हेतु  हर तरफ से प्रयास करने तत्पर है,

Additional Update Shortly To be Provided ......................

 🌹🌹🌹ओम शांती 🌹🌹🌹





No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages