राजनीति में भले ही किसी पर गंभीर मुकदमें दर्ज हों लेकिन उसे टिकट मिलने में कोई बुराई नहीं - News Vision India

Breaking

27 Feb 2018

राजनीति में भले ही किसी पर गंभीर मुकदमें दर्ज हों लेकिन उसे टिकट मिलने में कोई बुराई नहीं


राजनीति में भले ही किसी जनप्रतिनिधि पर गंभीर मुकदमें दर्ज हों लेकिन उसे टिकट मिलने में कोई बुराई नहीं

सुनकर आप हैरान जरूर हुये होंगे लेकिन ऐसा मानना है प्रदेश के नर्मदा विकास राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य का। जबलपुर पहुंचे आर्य ने बाबूलाल गौर बयान पर भी पलटवार किया उनका कहना था कि पार्टी किसी को टिकट देने के लिये गिड़गिड़ाएगी नहीं। आर्य ने प्रदेश में हुये उपचुनाव में भाजपा की जीत का भी दावा किया।

सियासत ओहदेदारों में कई ऐसे चेहरे हैं जिन पर संगीन मुकदमें दर्ज हैं। इसी फेहरिस्त में एक नाम प्रदेश के नर्मदा विकास राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य का नाम भी आता है। जबलपुर पहुंचे आर्या से जब सवाल किया गया कि गंभीर मामलों के आरोपी को क्या टिकट दी जानी चाहिये तो वे उसे सही ठहराने में जुट गये। उनका कहना था कि जिन्हें सजा मिलती है उन्हें टिकट न दी जाये लेकिन आरोपों को आधार नहीं बनाना चाहिये। कहीं न कहीं आर्या ने देश के उन बाहूबलियों का भी अप्रत्यक्ष रूप से समर्थन किया है जिन पर गंभीर मामले दर्ज हैं और जो चुनाव जीत कर संसद और विधानसभा में पहुंच जाते हैं । आर्या ने खुद पर दर्ज मामले के लिये कांग्रेस पर षणयंत्र का आरोप लगाया है। उनका कहना था वे जाटव समाज का नेतृत्व करते हैं इसलिये कांग्रेस ने ऐसा किया है।
  
बात जब चुनाव में टिकट वितरण की चल रही थी तो मीडिया ने पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के उस बयान पर सवाल कर दिया जिसमें उन्होंने भाजपा द्वारा चुनावी टिकट उनके घर में पहुंचाने का दावा किया गया था। आर्या ने उनके बयान पर पलटवार करते हुये साफ लब्जों में कह दिया कि पार्टी किसी को गिड़गिड़ाकर टिकट नहीं देगी। टिकट वितरण के मापदंडे अलग होते हैं और उन्हीं का पालन होगा। इधर प्रदेश में हुये उपचुनाव में आर्य ने भाजपा की जीत का दावा किया।मुगावली में हुये चुनाव में उन्होंने कांग्रेस को जमकर घेरा। उनका कहना था कि चुनाव हारता देख कांग्रेस बौखला गई है।

देश की सियासत में आपराधिक किस्म के लोगों के शामिल होने का समय समय पर विरोध होता रहा है। हैरानी इस बात की है कि राष्ट्रीय दलों के लिये सिर्फ चुनावी जीत मायने रखती है उम्मीद्वार की छवि नहीं।आर्य को शायद उम्मीद नहीं थी कि ऐसे सवालों से उनका सामना होगा। उन्होंने जवाब तो दिये लेकिन उसके बाद अपने माथे से पसीना पोछते नजर आये।

जबलपुर से वाजिद खान की रिपोर्ट
Please Subscribe Us At:

WhatsApp: +91 9589333311


#BJPNoProblemInGivingTicketsToCriminals, #NewsVisionIndia, #LatestHindiNews, 

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages