गीतांजलि की चमक में ऐसे अंधे हो गए थे बैंक, EY की रिपोर्ट में था गीतांजलि के गोलमाल का जिक्र - News Vision India

News Vision India

News Vision India Get latest news. Hindi Samachar, Khabar Bharat, live updates And How To from India, live India news headlines, breaking news India. Read all latest India news. top news on India Today. Read Latest Breaking News from India. Stay Up to date with Top news in India, current headlines, live coverage, photos, videos online. Get Latest and breaking news from India. Top India News Headlines, news on Indian politics and government, Business News, Bollywood News and More

Breaking

20 Feb 2018

गीतांजलि की चमक में ऐसे अंधे हो गए थे बैंक, EY की रिपोर्ट में था गीतांजलि के गोलमाल का जिक्र

Gitanjali And Bank Money
मुंबई  जेवरात की चमक और मेहुल चौकसी के चार्म ने शायद देश के बैंकों को अंधा कर दिया था। जब तक उन्हें गीतांजलि ग्रुप और चौकसी के साम्राज्य की बुनियाद के हवा-हवाई होने का पता चलता, तब तक बहुत देर हो चुकी थी। पिछले साल बैंकों ने एक बाहरी कंसल्टेंट को हायर किया था, उसकी स्पेशल रिपोर्ट से भी इस पर संदेह जताया गया है। इस गोपनीय रिपोर्ट का नाम प्रॉजेक्ट ज्वैल्स है और इसे कंसल्टेंसी फर्म अर्नेस्ट एंड यंग (ईवाई) ने मई 2017 में सौंपा था। इसमें गीतांजलि जेम्स और ग्रुप कंपनियों की डीलिंग, लिस्टेड कंपनी के जरूरी रिकॉर्ड्स नहीं रखने, डूबने की आशंका वाले कर्ज के लिए पर्याप्त प्रोविजनिंग नहीं करने और बकाया
गीतांजलि ग्रुप की कंपनियों पर करीब 35 बैंकों का 7,000 करोड़ रुपये बकाया है। इसमें बड़े सरकारी बैंकों के साथ प्राइवेट सेक्टर के भी कुछ बैंक शामिल हैं। यह रकम पीएनबी के एलओयू के बकाया से अलग मानी जा रही है। इस रिपोर्ट के सौंपे जाने के एक महीने बाद मुंबई में पीएनबी की ब्रैडी हाउस ब्रांच के एक सीनियर मैनेजर ने गीतांजलि से मेहुल चोकसी की पत्नी मिसेज प्रीति चोकसी की अपडेटेड नेटवर्थ स्टेटमेंट की मांग की। लेटर में इसकी वजह नहीं बताई गई है। बैंक आमतौर पर गारंटी देने वाले प्रमोटरों से उनकी संपत्ति का ब्योरा मांगते हैं। यह लेटर गीतांजलि जेम्स में बैंकिंग और फाइनैंस के जॉइंट प्रेजिडेंट कपिल खंडेलवाल के नाम इश्यू किया गया था और इसे आईसीआईसीआई बैंक को भी सीसी किया गया था, जो गीतांजलि ग्रुप का एक लेंडर है।
एक सीनियर बैंकर ने बताया, ‘बैंक लोन रिकवरी का दबाव बनाने के लिए पर्सनल गारंटी भुनाने की बात करते हैं, लेकिन लोन के बदले जिस एसेट की गारंटी दी गई है, उसे बेचने से कर्ज वसूल नहीं होता तो ऐसे मामलों में कुछ नहीं किया जा सकता।’
ईवाई की इस रिपोर्ट की इकनॉमिक टाइम्स ने समीक्षा की है। इसमें 2016 के मध्य तक ट्रांस एग्जिम और क्राउन एम को 2,081 करोड़ का एक्सपोर्ट डेटर बताया गया है। क्राउन गीतांजलि ग्रुप की कंपनी है और ट्रांस एग्जिम को गीतांजलि के प्रमोटर्स के एक रिश्तेदार ने खड़ा किया था। गीतांजलि के कुल रिसीवेबल्स में ग्रुप रिसीवेबल की हिस्सेदारी 33 पर्सेंट है। गीतांजलि जेम्स ग्रुप की वह कंपनी है, जिसने बैंकों से सबसे अधिक कर्ज लिया है। ईवाई की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी डमेस्टिक कलेक्शन के लिए इनवॉइस डेटा नहीं मेंटेन कर रही थी। पिछले तीन साल में वह जो पैसा रिकवर नहीं कर पाई थी, उसके लिए कंपनी ने प्रोविजनिंग भी नहीं की थी। गीतांजलि जेम्स ने ईवाई के साथ कन्फर्मेशन लेटर का सैंपल शेयर नहीं किया। कंपनियां अकाउंटिंग पीरियड खत्म होने के बाद आमतौर पर इसे शेयर करती हैं।

No comments:

Post a comment

Follow by Email

Pages