अन्ना जताया अफ़सोस: कृषि प्रधान देश में किसान का खुदकुशी करना दुर्भाग्यपूर्ण - News Vision India

News Vision India

News Vision India Get latest news. Hindi Samachar, Khabar Bharat, live updates And How To from India, live India news headlines, breaking news India. Read all latest India news. top news on India Today. Read Latest Breaking News from India. Stay Up to date with Top news in India, current headlines, live coverage, photos, videos online. Get Latest and breaking news from India. Top India News Headlines, news on Indian politics and government, Business News, Bollywood News and More

Breaking

24 Mar 2018

अन्ना जताया अफ़सोस: कृषि प्रधान देश में किसान का खुदकुशी करना दुर्भाग्यपूर्ण

Anna Hazare Started Hunger Strike
तिरंगा फहराकर अन्ना ने की भूख हड़ताल की शुरुआत
नई दिल्ली। समाज सेवी अन्ना हजारे आज से दिल्ली के रामलीला मैदान पर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। इस दौरान उन्होंने पिछली बार की तरह फिर से तिरंगा फहराकर आंदोलन की शुरूआत की। अनशन पर बैठे अन्ना ने सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी सरकार को खबरदार किया है। खबर है कि रामलीला मैदान में अन्ना समर्थकों का आना शुरू हो गया है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एवं कर्नाटक के पूर्व लोकायुक्त एन संतोष हेगड़े भी आंदोलन में शामिल के लिए मौके पर पहुंचे हैं।

नई दिल्ली रामलीला मैदान में सशक्त लोकपाल, चुनाव सुधार प्रक्रिया और किसानों की मांगों को लेकर अनशन पर बैठे समाजसेवी अन्ना हजारे ने केंद्र सरकार को किसानों के मुद्दे पर आड़े हाथों लिया। आंदोलनकारियों को संबोधित करते हुए अन्ना ने कहा कि चार वर्ष में केंद्र सरकार को 43 बार किसानों की परेशानियों को लेकर पत्र लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। किसान जो खर्चा करता है, उतनी पैदावार नहीं होती है और न ही किसान को दाम मिलता है। कृषि प्रधान देश में किसान खुदकशी कर रहा है इससे दुर्भाग्यपूर्ण क्या होगा।

अन्ना ने कहा कि फसल को लेकर राज्य कृषि मूल्य आयोग जो दाम तय करता है, केंद्र सरकार उसमें कटौती करती है। वहीं, 23 मार्च के दिन भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु हंसते-हंसते देश के लिए कुर्बान हो गए थे। अंग्रेज चले गए, लेकिन अब तक लोकतंत्र नहीं आया। गोरों की जगह काले आ गए हैं। बकौल अन्ना, '80 वर्ष की उम्र में हृदयाघात की जगह समाज की भलाई के लिए मृत्यु आ जाए। जब तक शरीर में प्राण हैं, बात करते रहेंगे। अनशन के एलान से सरकार हिल गई है। रात को केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत मिलने के लिए आए थे, मैंने उनसे कहा कि आश्वासन से काम नहीं चलेगा। इस बार ठोस कदम उठाने पड़ेंगे। साथ ही बातचीत के दरवाजे खुले हुए हैं।'

Also Read:
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ
Kelly’s Restaurant की ग्राहकों से अवैद वसूली, खानें से पहलें सोचें एक बार https://goo.gl/xsEdy9
68 साल से पिंपलोद ग्रामवासियो ने नहीं मनाई होली https://goo.gl/zE3Y9F

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311

#AnnaHazareStartedHingerStrike, #NewsVisionIndia, #HindiNewsAnnaHazareSamachar,

No comments:

Post a comment

Pages