कठुआ केस: राज्य सरकार ने SC से कहा-निष्पक्ष ट्रायल हो रहा है, केस ट्रांसफर करने की जरूरत नहीं

कठुआ केस: राज्य सरकार ने SC से कहा-निष्पक्ष ट्रायल हो रहा है, केस ट्रांसफर करने की जरूरत नहीं

Jammu Govt Ask SC Not To Transfer Kathua Case
कठुआ रेप और हत्या मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। केस के निष्पक्ष ट्रायल को लेकर राज्य सरकार ने कोर्ट में कहा कि मामले की सुनवाई जम्मू में पूरी तरह से जायज तरीके से हो रही है और केस को जम्मू कश्मीर से बाहर ट्रांसफर करने की जरूरत नहीं है। पीड़िता के परिवार की वकील दीपिका सिंह ने इस बात की आशंका जताई थी कि मामले की सुनवाई जम्मू में निष्पक्ष तरीके से नहीं होगी इसलिए केस को जम्मू कश्मीर से बाहर कहीं ट्रंासफर किया जाए।

गौरतलब है कि दीपिका सिंह ने कोर्ट में यह भी कहा था कि उनकी जान को खतरा है और उनका रेप भी हो सकता है। दीपिका सिंह ने जम्मू बॉर एसोसिएशन पर उन्हें धमकाने का आरोप भी लगाया था। कोर्ट ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए बार काउंसिल ऑफ इंडिया के पांच सदस्यों की एक टीम भी जम्मू भेजी थी पर टीम ने बीएसी जम्मू को क्लीन चीट दी थी और दीपिका सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज किया था।

क्या है कठुआ मामला
कठुआ में घुमंतू समुदाय की आठ वर्षीय बच्ची को सात दिनों तक बंधक बनाकर उसका रेप किया गया और फिर उसकी हत्या कर दी गई। बच्ची 10 जनवरी को लापता हो गई थी और 17 जनवरी को बच्ची का शव रसाना के जंगल में मिला था। इस मामले में पुलिस ने आठ लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें राजस्व विभाग का पूर्व अधिकारी और पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। इस मामले में आरोपी पक्ष द्वारा सीबीआई जांच की मांग की जा रही है।

Also Read:
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#JammuGovtAskSCNotToTransferKathuaCase, #NewsVisionIndia, #HindiNewsKathuaCaseJaKSamachar,

Post a Comment

Previous Post Next Post