पुलिस ने नवजात की बचाई जान, महिला पुलिसकर्मी ने नवजात को अपना दूध पिलाया - News Vision India

Breaking

6 Jun 2018

पुलिस ने नवजात की बचाई जान, महिला पुलिसकर्मी ने नवजात को अपना दूध पिलाया

New Born Saved By Police Female Officer Gives Milk
कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में एक महिला पुलिसकर्मी का दिल तब पसीज उठा जब उनके सामने एक लावारिस नवजात शिशु लाया गया. उन्होंने तुरंत उस बच्चे को अपने सहकर्मी की गोद से लिया और अपना दूध पिलाया.

पुलिस का कहना है कि इस बच्चे को एक कंस्ट्रक्शन साइट पर छोड़ दिया गया था. जब उसे पुलिस थाने लाया गया तो वह बहुत रो रहा था.

अर्चना बेंगलुरू में सॉफ्टवेयर पावर हाउस के पास स्थित इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी पुलिस स्टेशन में कॉन्सटेबल हैं. वह पांच साल से पुलिस विभाग में सेवारत हैं. इसी पुलिस थाने में बच्चा लाया गया था.

बच्चे को दूध पिलाने को लेकर अर्चना ने बताया, ''मुझसे देखा नहीं गया. उस बच्चे को रोते हुए देखकर मुझे बहुत बुरा लगा. ऐसा लगा जैसे मेरा अपना बच्चा रो रहा है.''

अर्चना कहती हैं, ''आप एक नवजात को बोतल से कैसे दूध पिला सकते हैं.''

32 साल की अर्चना का अपना भी एक नौ महीने का बच्चा है. वह उसे भी अपना दूध पिलाती हैं.

इस बच्चे को पुलिस स्टेशन असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर नागेश आर लेकर आए थे. नागेश आर ने बताया, ''बच्चे को स्थानीय अस्पताल में साफ कराने के बाद मैं बच्चे को पुलिस स्टेशन ले गया.''

पुलिस कंट्रोल रूम को स्थानीय दुकानदार ने फोन करके बताया था कि एक बच्चे को कंस्ट्रक्शन साइट पर छोड़ दिया गया है. दुकानदार को ये जानकारी एक कूड़ा उठाने वाले ने दी थी.

Also Read:
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#NewBornSavedByPoliceFemaleOfficerGivesMilk, #NewsVisionIndia, #HindiNewsSamachar, 

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages