गर्म हुई राजनीति: भारत सरकार ने ही दिया था रिलायंस का नाम, राफेल डील पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का बड़ा खुलासा

गर्म हुई राजनीति: भारत सरकार ने ही दिया था रिलायंस का नाम, राफेल डील पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का बड़ा खुलासा

Indian Govt Asked Contracts For Anil Ambani Reliance Rafale Deal
नई दिल्ली: राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने बड़ा ख़ुलासा किया है. उनका कहना है कि अनिल अंबानी के रिलायंस का नाम उन्हें भारत सरकार ने सुझाया था. उनके पास और कोई विकल्प नहीं था. एक फ़्रेंच अखबार को दिए इंटरव्यू में ओलांद ने कहा कि भारत सरकार के नाम सुझाने के बाद ही दसॉल्ट एविएशन ने अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस से बात शुरू की. बता दें कि अप्रैल 2015 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस की यात्रा पर गए थे तब फ्रांस्वा ओलांद ही राष्ट्रपति थे. उन्हीं के साथ राफेल विमान का करार हुआ था. 'मीडियापार्ट फ्रांस' नाम के अख़बार ने पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद से पूछा कि रिलायंस को किसने चुना और क्यों चुना तो फ्रांस्वा ओलांद ने कहा कि भारत की सरकार ने ही रिलायंस को प्रस्तावित किया था. ओलांद के इस खुलासे के बाद कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के साथ विश्वासघात किया, तो वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केजरीवाल ने कहा कि 'प्रधानमंत्री जी सच बोलिए. इस बीच रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि हम फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान से जुड़ी इस रिपोर्ट की जांच कर रहे हैं.

सरकार ने सुझाया रिलायंस का नाम'
राफेल करार में 'मीडियापार्ट फ्रांस' नाम के अख़बार ने कथित तौर पर पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के हवाले से सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा कि अरबों डॉलर के इस सौदे में भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस को दसॉल्ट एविएशन का साझीदार बनाने का प्रस्ताव दिया था.

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद का इंटरव्यू लेने वाले 'मीडियापार्ट' के संपादक ने #NDTV को बताया कि फ्रांस्वा ओलांद ने साफ कहा कि हमें भारत सरकार ने ही रिलायंस के आलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं दिया था.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया, 'प्रधानमंत्री ने बंद कमरे में राफेल सौदे को लेकर बातचीत की और इसे बदलवाया. फ्रांस्वा ओलांद का धन्यवाद कि अब हमें पता चला कि उन्होंने (मोदी) दिवालिया अनिल अंबानी को अरबों डॉलर का सौदा दिलवाया.' राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत के साथ विश्वासघात किया है. उन्होंने हमारे सैनिकों के लहू का अपमान किया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ओलांद का बयान सीधे-सीधे उस बात का विरोधाभासी है जो अब तक मोदी सरकार कहती रही है. केजरीवाल ने पूछा कि क्या करार पर 'अहम तथ्यों को छिपाने' से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में नहीं डाला गया?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 अप्रैल 2015 को पेरिस में तत्कालीन फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के साथ बातचीत के बाद 36 राफेल विमानों की खरीद का ऐलान किया था. करार पर अंतिम रूप से 23 सितंबर 2016 को मुहर लगी थी. खबर में ओलांद ने करार का उनकी सहयोगी जूली गायेट की फिल्म से किसी भी तरह के संबंध से इनकार किया है.

पिछले महीने एक अखबार में इस आशय की खबर है. रिपोर्ट में कहा गया था कि राफेल डील पर मुहर लगने से पहले अंबानी की रिलायंस एंटरटेनमेंट ने गायेट के साथ एक फिल्म निर्माण के लिए समझौता किया था.

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा, 'अगर इस तरह को कोई करार हुआ है तो यह राफेल सौदा एक घोटाला है. मोदी सरकार ने झूठ बोला और भारतीयों को गुमराह किया. पूरा सच हर हाल में सामने आना चाहिए.'

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, 'सफ़ेद झूठ का पर्दाफ़ाश हुआ. प्रधानमंत्री के साठगांठ वाले पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को 30 हजार करोड़ रुपये के ऑफसेट कांट्रैक्ट से वंचित किया गया. इसमें मोदी सरकार की मिलीभगत और साजिश का खुलासा हो गया है.'

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कटाक्ष करते हुए कहा, 'फ्रांस्वा ओलांद को यह भी बताना चाहिए कि 2012 में जो विमान 590 करोड़ रुपये का था, वो 2015 में 1690 करोड़ रुपये का कैसे हो गया. 1100 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है.'

रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि हम फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान से जुड़ी इस रिपोर्ट की जांच कर रहे हैं कि भारत सरकार ने दसॉल्ट एविएशन की ऑफ़सेट साझेदार के तौर पर एक खास कंपनी का नाम दिया. ये बात फिर दोहराते हैं कि कारोबारी निर्णय में न भारत सरकार की भूमिका थी न फ्रेंच सरकार की.

Indian Govt Asked Contracts For Anil Ambani Reliance Rafale Deal
इधर #RahulGandhi ने कहा ‘गली-गली में शोर है चौकीदार चोर है’

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि विजय माल्या ने खुद कहा है कि वह भारत छोड़ने से पहले तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिलकर गया था. भाजपा सरकार को पता होने के बावजूद वह चुप रही. राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी खुद को देश का चौकीदार कहते हैं लेकिन मैं कहता हूं कि गली-गली में शोर है चौकीदार चोर है.

बीजेपी के पोस्टर्स पर राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी और वसुंधरा के पोस्टर और विज्ञापन पर करोड़ों ख़र्च हो रहे हैं. सरकार चार पांच उद्योगपतियों के लिए चलती हैं. पांच सात हज़ार लोगों के लिए मोदी जी ने बुलेट ट्रेन पर एक लाख करोड़ के खर्च की घोषणा की. लेकिन कांग्रेस ने जो रेल परियोजना 2000 करोड़ की शुरू की थी उसे बंद कर दिया. हम सरकार में आए तो फिर ये रेल योजना शुरू करेंगे.

यूपीए सरकार ने 126 हवाई जहाज़ के लिए 526 करोड़ प्रति जहाज़ के लिए क़रार किया. मोदी के साथ अनिल अम्बानी भी फ्रांस गए उन पर 45 हज़ार करोड़ का कर्ज है. पूरी ज़िंदगी कभी अनिल अम्बानी ने हवाई जहाज़ नहीं बनाया. मैंने मोदी जी से कई बार सवाल पूछे लेकिन वो मुझसे आंख से आंख नहीं मिला सके.

नोटबंदी पर एक बार फिर हलावर होते हुए राहुल गांघी ने कहा कि नोटबंदी की लाइन में सिर्फ़ ग़रीब लोग थे कोई सूट बूट वाला नहीं था. नौ हज़ार करोड़ की चोरी करने वाला माल्या देश के वित्त मंत्री से मिला. चोर को भागने का मौक़ा देने वाले को जेल में डाला जाता हैं.

जनता पर गब्बर सिंह टैक्स लगा दिया. लेकिन यूपी के किसानों का कर्ज़ माफ़ नहीं किया. मैं ख़ुद मोदी जी से उनके दफ़्तर में जाकर मिला था. मोदी जी के मुंह से एक शब्द नहीं निकला. सिर्फ़ 15-20 लोगों के अच्छे दिन आए किसान और छोटे दुकानदार रो रहे हैं. कांग्रेस की सरकार आई तो गब्बर सिंह की जगह जीएसटी लागू करेंगे.

मनरेगा से करोड़ों का जीवन बदला उसे पीएम बेकार कहते हैं और कहते हैं कि कांग्रेस ने लोगों से गड्ढे खुदवाए. इस सरकार ने रोजगार के लिए क्या किया? युवाओं को रोज़गार देने पर हमारी सरकार का फ़ोकस होगा. दो करोड़ को रोज़गार और म़ेक इन इंडिया की स्कीम पिट गईं. राजस्थान की सरकार को मोदी जी, सिंधिया जी और उनका पैसा भी नहीं बचा सकेगा. राजस्थान में जनता की सरकार बनेगी.

राजस्थान में सरकार यात्रा निकाल रही हैं. बैंक खातों में पंद्रह लाख जैसे झूठे वायदे हम नहीं करने वाले. पीएम मन की बात करते हैं लेकिन हमें तो आपके मन की बात जानना चाहते हैं. कांग्रेस कार्यकर्ता तय करेंगे कि उम्मीदवार कौन होगा. पैराशूट प्रत्याशी मंज़ूर नहीं होगा.

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#IndianGovtAskedContractsForAnilAmbaniRelianceRafaleDeal, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar,

Post a Comment

Previous Post Next Post