शिक्षा विभाग से सवाल: कॉपी न किताब, बच्चे होंगे कैसे कामयाब? - News Vision India

Breaking

2 Nov 2018

शिक्षा विभाग से सवाल: कॉपी न किताब, बच्चे होंगे कैसे कामयाब?

वाह रे मुख्यमंत्री सरकार बच्चों ने क्या देगे परीक्षा कॉपी न किताब, हम होंगे कामयाब, का सपना दिखा रहे इंग्लिश मीडियम सरकारी स्कूल

जिले के परिषदीय स्कूलों को माडर्न कर इंग्लिश मीडियम बनाने की मंशा पर पानी फिर रहा है। शिक्षण सत्र शुरु होने के छ माह बाद भी स्कूलों में कॉपी-किताब तक नहीं पहुंची है। बच्चों के बैठने के लिए न तो सहीं इंतजाम है और न ही पढ़ाई की व्यवस्था।

जिले के परिषदीय स्कूलों को माडर्न कर इंग्लिश मीडियम बनाने की मुहिम फेल नजर आ रही है। मजबूरी में यहां दाखिला लेने वाले बच्चे हिंदी मीडियम की फटी-पुरानी किताबों से काम चला रहे हैं।निजी स्कूलों के बढ़ते प्रभाव और परिषदीय स्कूलों के प्रति लोगों के हो रहे मोहभंग को देखते हुए शासन ने परिषदीय स्कूलों को अंग्रेजी माध्यम से विकसित करने का फैसला लिया था। इसके तहत जिले के चयनित विघालयों को शामिल किया गया। अफसरों ने स्कूलों को चिन्हित करके वहां पर अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाने वाले शिक्षकों की तैनाती भी कर दी। इसके बावजूद यह स्कूल बदहाली के शिकार हैं। एक अप्रैल से शैक्षिक सत्र शुरु हो गया है। स्कूलों में अभी अंग्रेजी माध्यम की किताबें तक नहीं पहुंचाई जा सकीं।

टीम के द्वारा जब सुल्तानपुर सीमावर्ती क्षेत्र पर चयनित इंग्लिश मीडियम विघालय भरसारे की जमीनी हकीकत जानी गई तो सारा मामला उजागर हो गया। बच्चों और अध्यापकों से बातें करने पर पता चला कि अभी तक मात्र कक्षा 1, कक्षा 2 एवं कक्षा 3 की मात्र दो - दो किताबें उप्लब्ध हो पाई हैं। बच्चे हिन्दी मीडियम की पुरानी किताबों से पढाई कर रहे हैं।

चुनाव प्रचार में सभी पार्टियां बड़े बड़े वादे करते हैं परन्तु वो वो जमीनी हकीकत पर शून्य नजर आते हैं। मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने ये निर्णय लिया था कि परिषदीय को चयनित करके इंग्लिश मीडियम बनाकर उच्च शिक्षा प्रदान की जारेगी। विघलय चयनित भी हुये परन्तु विघालय चयनित होने से शिक्षा का स्तर नहीं बढता इसके लिये किताबों की आवश्यक्ता होती जिसकी व्यावस्था अभी तक सरकार या शिक्षा विभाग नहीं कर पाया है। ऐसे में शिक्षा विभाग पर सवाल बनता है कि जब कॉपी न किताब, बच्चे होंगे कैसे कामयाब?

बाइट: अशोक वर्मा सहायक अध्यापक

बाइट: दीक्षा श्रीवास्तव सहायक अध्यापिका

बाइट: अभय पाण्डेय छात्र

बाइट: संध्या छात्रा

बाइट: रिक्ति छात्रा

रिपोर्ट अमन वर्मा स्टेट कोआडिरनेटर न्यूज विजन उत्तर प्रदेश

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311

For Donation Bank Details
Account Name: News vision
Account No: 6291002100000184
Bank Name: Punjab national bank
IFS code: PUNB0629100

Via Google Pay
Number: +91 9589333311

#NoBooksGivenToStudentsForStudyInSchoolsOfUttarPradesh, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar, 

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages