समाज हित की खोखली बात, अकेला पड़ा मंच पर, फर्जी समाज सेवक का धिक्कार दिवस - News Vision India News Latest News India Breaking India News Headlines News In Hindi

News Vision India News Latest News India Breaking India News Headlines News In Hindi

India News: Get latest news. live updates from India, live India news headlines, breaking news India. Read all latest India news. top news on India Today. Read Latest Breaking News from India. Stay Up-to-date with Top news in India, current headlines, live coverage, photos & videos online. Get Latest and breaking news from India. Today's Top India News Headlines, news on Indian politics and government, Business News, Bollywood News and More

Breaking

11 Apr 2019

समाज हित की खोखली बात, अकेला पड़ा मंच पर, फर्जी समाज सेवक का धिक्कार दिवस




समाज के हित की बात करने वाली समाजवादी पार्टी के नेता, जब मंच लगाकर कुर्सियां लगाकर भाषण दे रहे थे, तो उनके सामने उनका भाषण सुनने वाला एक भी व्यक्ति उपस्थित नहीं था, यह वही गद्दार नेता है जो समाजवाद की बात करते हैं समाज के वरिष्ठ पदों पर बने रहते हैं कई वर्षों तक शोषण करते हैं,  अपनी व्यक्तिगत इच्छा पूरी करते हैं,  और अपनी नालायक बीजो  को अपनी कुर्सी सौंपने की निकम्मी हरकत करते हैं,  और उनके पारितोषिक में जनता उन्हें इसी तरह से जवाब देती है, और सबसे बड़ी आश्चर्य की बात यह है कि इन लोगों की असामाजिक गतिविधियों से इनके खुद के कार्यकर्ता पूरी जानकारी से इतने परिपक्व हो चुके हैं, कि वे खुद भी यहां पर उपस्थित नहीं है, दूसरा पहलू इसका यह भी था, इन गरीब नेताओं के पास मंच साझा करने के साथ जनता के नाश्ते पानी की व्यवस्था करने की हैसियत भी नहीं रह गई और ना ही इनके पास 100 प्रतिदिन की लेबर बुलाने लायक माली हालत की मजबूती रह गई,   बिना अनुभव,  बिना पालिसी के, बिना ज्ञान के, बेरोजगारी की उम्र में समाज की व्यवस्थाओं को चलाने की भावना लेकर आगे बढ़ने वाला नेता, जब लालची हो जाता है, तब उसकी प्रसिद्धि का पतन इसी प्रकार से दिखता है, वो ये नही सोचता की उसकी झूठी महत्वकांक्षा के पीछे कितने लोगो की उपेक्षा हो जाएगी, बदले में नियति ने उसको दिया पारितोषक , और तब तक वह अपनी जड़ों से इतना खोखला हो चुका होता है, कि उसके सारे बीज भी ऐसे ही खोखले वृक्षों को उत्पन्न करते हैं, जिन्हें वह अपनी छत्रछाया में संजोए रखने का प्रयास करता है, उसी परिधि में एक नालायक  निकम्मा नेता समाज का सेवक, अपने घर के निकम्मों  को अपनी कुर्सी सौप कर जाता है, क्योंकि तब तक वह जान चुका होता है, जब मुझसे ही कुछ नहीं हो पाया तो कम से कम कुछ वर्षों तक मेरे पद पर बने रहकर कुछ तो प्याज काट लेंगे निकम्मे , इसका भरोसा तो खुद नेता को होता ही है के नेता होने के नाते पूरे तरीके से अपनी फसल की गुणवत्ता खो चुका होता है, यह फसल न खाने की है, ना बिकने की अब जरूरत है, तो इसे केवल ठिकाने लगाने की

मगर फिर भी समाजवादी के नेता के हौसलों में कोई कमी नही दिखी , भाषण कंटीन्यू रहा , जनता को बेवकूफ बनाते बनाते बूढा हो चला , पर अभी तक नेता थका नही,   















संकलन कर्ता  :- Jitaindra Makhieja

#Farji samaj sevak politician samajwadi party

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages