क्या भाजपा अब नौ साल बाद अटल जी की मौत पर करेगी राजनीति? - News Vision - India News, Latest News India, Breaking India News Headlines, News In Hindi

News Vision - India News, Latest News India, Breaking India News Headlines, News In Hindi

India News: Get latest news. live updates from India, live India news headlines, breaking news India. Read all latest India news. top news on India Today. Read Latest Breaking News from India. Stay Up-to-date with Top news in India, current headlines, live coverage, photos & videos online. Get Latest and breaking news from India. Today's Top India News Headlines, news on Indian politics and government, Business News, Bollywood News and More

Breaking

24 Aug 2018

क्या भाजपा अब नौ साल बाद अटल जी की मौत पर करेगी राजनीति?

Will BJP Use Atal Bihari Name For Elections
लखनऊ स्टेट हेड न्यूज विजन उत्तर प्रदेश भानू मिश्रा की कलम से क्या भाजपा अब नौ साल बाद अटल जी की मौत पर करेगी राजनीति? पर विशेष

तो क्या अब भाजपा के पास राम मंदिर के साथ मा० अटल जी को भी मरने के बाद राजनीति से नही बक्सेंगे?

तो क्या नौ वर्ष तक अटल जी भाजपा को राजनैतिक व्यक्ति या पूर्व प्रधानमंत्री भारत सरकार नही थे?

तो क्या अब भाजपा अटल जी का राजनैतिक करण कर वोट की राजनीति के रूप मे कांग्रेस मे इंदिरा गांधी की तरह कैश क्या था?

तो क्या भाजपा के लिए यह कांग्रेसी फार्मूला अपनाना नही हुआ

तो अब भाजपा के पास अटल जी की अस्थियां भी हैं।

100 नदियों और 22 राज्यों में विसर्जित की जाएंगी।

जिला स्तर पर सभाएं भी होंगी।

नवम्बर में होने वाले चार राज्यों के विधानसभा और अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा के पास नरेन्द्र मोदी के चेहरे के साथ-साथ पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां भी होंगी। हालांकि वाजपेयी पिछले दस वर्षों से सक्रिय राजनीति से हट गए थे और खराब स्वास्थ्य की वजह से उनका चेहरा भी किसी को नहीं दिखाया गया, लेकिन अब उनके निधन पर भाजपा ने प्रचार-प्रसार का एक बड़ा अभियान चलाया है। दिल्ली और प्रमुख राज्यों की राजधानियों में सर्वदलीय शोक सभा की जा रही है।

इनमें भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस, सपा, बसपा, कम्युनिस्ट आदि पार्टियों के नेता भी अटल जी की प्रशंसा कर रहे हैं। हालांकि वाजपेयी का व्यक्तित्व अपने आप में बड़ा था इसलिए विपक्षी दलों के नेता भी आज प्रशंसा कर रहे हैं। भाजपा के लिए राजनीतिक दृष्टि से ये बात मायने रखती है कि उसके पास अटल जी के तौर पर एक ऐसी विरासत आ गई है, जिसकी प्रशंसा विपक्षी दल भी करते हैं। यही वजह है कि अब पूरे प्रदेश में सहानुभूति के माहौल को भुनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है।

राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे से लेकर यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ तक अटल जी के अस्थि कलश लेकर चल रहे हैं। भाजपा की ओर से घोषणा की गई है कि 22 राज्यों और 100 नदियों में अटल जी की अस्थियां विसर्जित की जाएंगी। जिन राज्यों में भाजपा और उनके गठबंधन की सरकार है, उनमें मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष और बड़े नेता उपस्थित रहेंगे। 22 अगस्त को दिल्ली में भाजपा के मुख्यालय पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमितशाह, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह आदि ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष को अटल जी के अस्थि कलश सौंपे। अटल जी के इन अस्थि कलशों का कितना महत्व है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 22 अगस्त को जब राजस्थान के प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी अस्थि कलश लेकर सांगानेर एयरपोर्ट पहुंचे तो प्रदेश की सीएम वसुंधरा राजे, केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल, भाजपा के प्रदेश संगठन मंत्री चन्द्रशेखर आदि मौजूद थे।

बाद में एयरपोर्ट से ही भाजपा मुख्यालय तक अस्थि कलशों को एक जुलूस के रूप में ले जाया गया। अस्थि कलश के इस रथ पर राजे, सैनी आदि सभी नेता सवार थे। अब एक कलश को 23 अगस्त को हिन्दुओं के तीर्थ स्थल पुष्कर के सरोवर में तथा दूसरे को कोटा से गुजर रही चंबल नदी में विसर्जित किया जाएगा। जिला स्तर पर कलश यात्राएं और सर्वदलीय शोक सभा भी की जाएगी। भाजपा शासित राज्यों में सरकारी अस्पतालों संस्थानों के नाम भी अटल जी के नाम पर रखे जाएंगे। इसकी शुरुआत छत्तसीगढ़ के सीएम रमन सिंह ने कर भी दी है।

छत्तसीगढ़ की राजधानी रायपुर का नाम अब अटल नगर होगा, हमारे देश में अटल जी जैसे राजनेताओं के नाम पर सरकारी संस्थानों के नाम रखने की परंपरा आजादी के बाद से ही चल रही है। अब जब विपक्षी दलों के नेता भी अटल जी की प्रतिभा के कायल है। तो फिर विरोध की गुंजाइश भी नहीं है। भाजपा गर्व के साथ कह सकती है कि उसके पास अटल जी जैसा महापुरुष भी है। अब देखना है कि अटल जी की विरासत का कितना लाभ भाजपा को चार राज्यों के विधानसभा और अगले वर्ष होने वाले लोकसभा के चुनाव में मिलता है।

Also Read:
इस खुलासे से मचा हड़कंप, नेताओं और अधिकारियों के घर भेजी जाती थीं सुधारगृह की लड़कियां https://goo.gl/KWQiA4
तुरंत जाने, आपके आधार कार्ड का कहां-कहां हुआ इस्तेमाल https://goo.gl/ob6ARJ

मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है: दीपिका सिंह राजावत, असीफा की वकील

हनिप्रीत की सेंट्रल जेल में रईसी, हर रोज बदलती है डिजायनर कपड़े

माँ ही मजूबर करती थी पोर्न देखने, अजीबोगरीब आपबीती सुनाई नाबालिग लड़की ने

सिंधियों को बताया पाकिस्तानी, छग सरकार मौन, कभी मोदी ने भी थी तारीफ सिंधियो की

Please Subscribe Us At:
WhatsApp: +91 9589333311
                                                                                                                                                  
#WillBJPUseAtalBihariNameForElections, #NewsVisionIndia, #IndiaNewsHindiSamachar, 

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages