Exclusive: देखिये रद्दी चौकी जबलपुर में सरेआम हत्या का लाइव फुटेज - News Vision India

Breaking

17 Oct 2017

Exclusive: देखिये रद्दी चौकी जबलपुर में सरेआम हत्या का लाइव फुटेज

रद्दी चौकी बीच चौराहा में मामूली भिड़ने के विवाद पर एक व्यक्ति की चाकू से गोद कर हत्या का लाइव विडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है. इस विडियो में चार व्यक्ति मात्र भिड़ने के विवाद पर  युवक को चाकू मारते नजर आ रहे है. 
आइये जानते है क्या है पूरा मामला ...
शहर के रद्दी चौकी चौराहे के बीच में कल रात करीब साढ़े 11 बजे कार सवार 4-5 लड़कों ने एक लड़के को चाकुओं से गोदकर मर्डर कर दिया। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक लड़को के बीच मामूली बहस हो गई थी। आरोपियों की पहले से मृतक जमील के साथ कोई रंजिश  नहीं थी। इस मामले में भाजपा नेता असलम  का भाई अलीम खान, दीपक, विपिन यादव और राहुल शामिल हैं
-दरअसल जमील अपनी बाइक पर सवार होकर जा रहा था तभी सामने से आ रही कार जिसमें चारों आरोपी सवार थे।
- कार सवार सभी आरोपी जब रद्दी चौकी चौराहे के पास से जा रहे थे, तभी जमील जो कि कमर अली  की कबाड़ की दुकान में काम करता है, वहां पर बाइक से निकल रहा था।
- उसी दौरान कार में बैठे लोगों से उसकी बहस व गाली-गलौज हुई। उसके बाद ही कार सवार युवकों ने उस पर चाकुओं से हमला बोल दिया।
- जमील को तत्काल पास के एक अस्पताल में ले जाया गया, लेकिन उसकी हालत गंभीर देखकर मेडिकल अस्पताल भेजा गया, जहां उसने सुबह के वक्त दम तोड़ दिया।

पुलिस ने की थी घायल को बचाने की भरसक कोशिश-  पुलिस जब मौके पर पहुंची, तो उसे न तो घायल का नाम पता था और न आरोपियों का कोई सुराग पता चला था. चंद कदम दूर हॉस्पिटल में घायल को भर्ती कर पुलिस ने बचाने का पर्यास किया सकी, हालत गंभीर देखकर मेडिकल अस्पताल भेजा गया, जहां उसने सुबह के वक्त दम तोड़ दिया।

सीसीटीवी से लगा सुराग
- सीसीटीवी के जरिए पुलिस को सबसे पहले आरोपियों का सुराग मिला तो पता चला कि उसमें अलीम खान के साथ दीपक, राहुल और विपिन यादव हो सकते हैं।
- इस मामले में पुलिस के हाथ कई संदेही ही लग जाने के बाद यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि जमील की मर्डरका मुख्य कारण क्या है।
- अभी मुख्य आरोपी भी पुलिस के हाथ नहीं आया है। सभी आरोपियों की तलाश के लिए कई टीमों को खोजबीन के काम में लगाया गया है
अहम् सुराग जो छूट रहे है सूत्रों के आनुसार हमलावर जिस गाड़ी में सवार थे वह रद्दी चौकी के प्रभावशाली राजनितिक नेता की बताई जाती है.और ये सभी उसी नेता के साथी बताये जा रहे है युवको में एक का भाई सत्ताधारी दल का सक्रीय सदस्य है 


No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Pages